FB पर गंदे कॉमेंट करने वालों को नहीं बख्शती यह लेडी रेसलर, कई को भिजवाया जेल

FB पर गंदे कॉमेंट करने वालों को नहीं बख्शती यह लेडी रेसलर, कई को भिजवाया जेल

सोशल मीडिया ने एक और जहां हमें लोगों से जुड़ना सिखाया है, वहीं कुछ लोग अश्लील कॉमेंट और भद्दे मेसेजेस करके इस जगह को गंदा करने में भी लगे हैं। इन हरकतों का सबसे ज्यादा शिकार लड़कियां और महिलाएं होती हैं। हालांकि बहुत कम महिलाएं हैं, जो इसके खिलाफ आवाज उठाकर दोषी को सजा दिलवा पाती हैं। आज हम ऐसी ही एक महिला रेसलर की बात करने वाले हैं, जिन्होंने फेसबुक पर फेक आईडी बनाकर महिलाओं पर अश्लील कॉमेंट करने वाले कई आरोपियों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचवाया है।

चंडीगढ़ हाई कोर्ट में जुडिशल ऑफिसर के पद पर तैनात दीपिका देशवाल एक रेसलर होने के अलावा सोशल वर्कर भी हैं। मूलतः हरियाणा के बहादुरगढ़ जिले की रहने वाली दीपिका दिल्ली विश्वविद्यालय की गोल्ड मेडलिस्ट भी हैं। पिछले 1 महीने में उन्होंने ऐसे तीन लोगों को सजा दिलाई है, जिन्होंने उनके विडियोज या तस्वीरों पर भद्दे कॉमेंट किए या फिर उन्हें गंदे मेसेज करके परेशान किया।

पेशे से था मकैनिक, लड़कियों को बताता था शायर और सिंगर

दीपिका का दावा है कि पहला युवक पाकिस्तान का था। दीपिका ने इसकी शिकायत पाकिस्तान पुलिस को की तो 2 घंटे के भीतर ही उस सिरफिरे को गिरफ्तार कर लिया गया और उसे विडियो के जरिए माफी भी मांगनी पड़ी। दूसरा मामला पश्चिम बंगाल और तीसरा यूपी के अमरोहा जिले का था। इन लोगों को भी दीपिका की शिकायत पर जांच के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। ‌अमरोहा निवासी युवक फेसबुक पर फेक आईडी बनाकर दीपिका समेत करीब 60 लड़कियों से अश्लील बातें किया करता था। वह पेशे से मकैनिक था, लेकिन फेसबुक पर खुद को सिंगर और कभी शायर बताता था।

नजरअंदाज नहीं, शिकायत करें

दीपिका बताती हैं कि उन्होंने सिर्फ ऐसे ही लोगों को सजा नहीं दिलवाई जिन्होंने उनकी आईडी पर कॉमेंट किया, बल्कि अन्य महिलाओं की भी ऐसे ही मामलों में मदद की है। अन्य महिलाओं को सलाह देते हुए दीपिका कहती हैं कि ऐसे किसी भी मामले में उन्हें चुप नहीं बैठना चाहिए बल्कि इसकी तुरंत पुलिस में शिकायत करनी चाहिए। यदि कोई सिरफिरा उन्हें अश्लील बातें कहता है तो इसमें गलती उस युवक की है न कि पीड़िता की।

शिकायत पर इस तरह ऐक्शन लेती है पुलिस

महिलाओं को अश्लील टिप्पणी के जरिये परेशान करने के मामले पर नवभारत टाइम्स ने दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी संजय सिंह से भी बात की। संजय सिंह बताते हैं कि इस तरह के मामलों में खास सावधानी बरती जाती है कि महिला की पहचान को उजागर ना किया जाए। इसके साथ ही उन्हें हर प्रकार से सहायता देने की कोशिश की जाती है। महिला की शिकायत पर मामले की जांच की जाती है और दोषी पाए जाने पर युवक को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर लिया जाता है।

google news/pic